राज्य का सबसे लंबे समय तक चलने वाला रेस्क्यू ऑपरेशन का
पुलिस अधीक्षक की गरिमामयी उपस्थिति में किया गया सम्मान समारोह का आयोजन


राज्य का सबसे लंबे समय तक चलने वाला रेस्क्यू ऑपरेशन
पुलिस अधीक्षक की गरिमामयी उपस्थिति में किया गया सम्मान समारोह का आयोजन
आपरेशन राहुल में सम्मिलित कुल 202 अधिकारी एवं कर्मचारियों को पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा प्रशस्ति पत्र से किया गया सम्मानित
रक्षित केंद्र जांजगीर में किया गया सम्मान समारोह का आयोजन
बच्चे को कड़ी मशक्कत के बाद बाहर निकालने में मिली थी सफलता
जांजगीर चांपा। मालखरौदा क्षेत्र के ग्राम पिहरीद में एक 10 वर्षीय बच्चा राहुल साहू बोरवेल में लगभग 60 फिट नीचे गिर गया था जिसे लगभग 106 घण्टे बाद दिनाँक 15.06 22 को बोरवेल से बाहर निकालने में सफलता प्राप्त हुई
रेस्क्यू ऑपरेशन में लगे पुलिस अधिकारी एवं कर्मचारियों द्वारा कड़ी मेहनत एवं सूझबूझ से ड्यूटी करने के फलस्वरूप कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित नही हुई जिसके कारण बालक राहुल साहू को शांतिपूर्ण तरीके से बाहर निकालने में सफलता प्राप्त हुई।
पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा कार्यक्रम के दौरान आपरेशन में सम्मिलित सभी पुलिस अधिकारी/कर्मचारियों को कड़ी मेहनत से ड्यूटी करने एवं आपरेशन को सफल बनाने के लिए बधाई दी गई, उक्त आपरेशन बहुत बड़ा होना भविष्य में इस प्रकार की घटनायें होने पर ड्यूटी के लिए तैयार रहना एवं इस प्रकार की ड्यूटी को जीवन में एक उपलब्धि होना बताया गया। साथ ही वहॉ उपस्थित अधि./कर्मचारियों को ड्यूटी के दौरान किये गये अनुभव के संबंध में अपने अनुभव साझा करने के लिए निमंत्रित किया गया।
ड्यूटी में लगे आर. शनि जोशी द्वारा अपने अनुभव में वर्तमान थाना मालखरौदा में पदस्थ होकर डायल 112 की ड्यूटी में तैनात होना एवं डायल 112 की टीम को उक्त घटना के संबंध में इवेंट मिलने पर तत्काल घटनास्थल पहुंचकर बोरवेल के चारों तरफ को रस्सी से घेराबंदी करना एवं उक्त ड्यूटी काफी चुनौतीपूर्ण होना, आर. बलवंत चंद्रा एवं आर. राजेन्द्र कुर्रे द्वारा अपने जीवनकाल में ऐसी ड्यूटी करने का अवसर पहली बार मिलना। प्र.आर. रमेश त्रिपाठी द्वारा दिनांक 10.06.22 से 15.06.22 तक ड्यूटी में रहना बोरवेल के आसपास बहुत भीड़ हो जाने से आमजनों को समझाईश देकर भीड़ को नियंत्रित करना। प्र.आर. अजय चतुर्वेदी द्वारा उक्त ड्यूटी के दौरान घटना को देखने के लिए बाहर से आये लोगों को समझाईश देकर भीड़ को नियंत्रित करना साझा किया गया। इसी प्रकार उप निरीक्षक गोपाल सतपथी द्वारा लगातार 05 दिनों तक ड्यूटी में डटे रहना, राहुल साहू के बोरवेल में गिर जाने के कारण कौतुहल का विषय होना जिसे देखने के लिए आसपास एवं अन्य जिलों से व्यक्तियों के आने के कारण भारी मात्रा में भीड़ इकट्ठा हो जाना, राहुल साहू के सकुशल बोर से निकलने के कारण 05 दिन का थकान दूर हो जाना एवं जीवन का सुखद अनुभव होना बताया गया। उप निरीक्षक नवीन पटेल द्वारा घटना की जानकारी प्राप्त होने पर तत्काल जेसीबी एवं ट्रेक्टर की व्यवस्था कर घटनास्थल पर पहुंचकर जेसीबी के माध्यम से खुदाई कार्य कराना बताया गया। उप निरीक्षक योगेश पटेल द्वारा भारी मात्रा में भीड़ होने के कारण उसको नियंत्रित करना बताया गया। निरीक्षक मनीष सिंह परिहार द्वारा राहुल साहू बोरवेल से बाहर आने के दौरान चारो तरफ अपनी आंख घुमाकर देखा तब ड्यूटी की थकान दूर हो जाना और परिवार का बेटा वापस आ जाना और जीवन का एक सुखद अनुभव प्राप्त होना बताया गया। निरीक्षक रूपक शर्मा द्वारा अपने अनुभव में पुलिस अधीक्षक महोदय को रेस्क्यू के दौरान हर समय उपस्थित रहना, उनकी जीवटता एवं मेहनत को देखकर नये जोश एवं ऊर्जा के साथ कार्य करने के लिए प्रेरित होना, भीषण गर्मी होने के बाजवूद भी वहां उपस्थित पुलिस अधिकारी/कर्मचारियों द्वारा लगन एवं मेहनत से ड्यूटी करना तथा राहुल साहू के सुरक्षित बोरवेल से वापस आने पर 05 दिन की थकान दूर हो जाना बताया। निरीक्षक प्रवीण राजपूत द्वारा पुलिस अधीक्षक महोदय से घटना के संबंध में जानकारी प्राप्त होने पर तत्काल घटनास्थल पहुंचकर बोरवेल के पास के क्षेत्र को सुरक्षित करना एवं अन्य विभागों से संपर्क स्थापित कर रेस्क्यू आपरेशन को प्रारंभ कराना बताया।
अनिल सोनी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक द्वारा उक्त ड्यूटी काफी चुनौतीपूर्ण होना एवं उक्त आपरेशन में सम्मिलित होना जीवन की बहुत बड़ी उपलब्धि होना बताया गया। संदीप मित्तल, उप पुलिस अधीक्षक, यातायात द्वारा ग्रीन कारीडोर बनाने की अनुमति मालखरौदा से अपोलो अस्पताल बिलासपुर तक मिलने पर तत्काल ट्रैफिक के जवानों को रोड क्लीयर कराने के लिए निर्धारित स्थानों पर लगाया जाना बताया गया। बी.एस.खुण्टिया द्वारा पुलिस अधीक्षक महोदय को दिन रात एक करके पूरे समय ड्यूटी में रहना एवं ड्यूटी काफी चुनौतीपूर्ण होना बताया गया।
रेस्क्यू के दौरान लगभग 60 फीट गड्ढे बोरवेल में गिरे राहुल साहू को सकुशल बाहर निकालने के अभियान में अपने उत्तम योग्यता एवं कर्तव्य परायणता का परिचय देने वाले अति.पुलिस अधीक्षक 01, उप पुलिस अधीक्षक 03, रक्षित निरीक्षक 01, सूबेदार 01, उप निरीक्षक 08, सहा. उप निरीक्षक 11, प्रधान आरक्षक 19 एवं आरक्षक 158 कुल 202 पुलिस अधिकारी/कर्मचारियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया
इसके पश्चात कार्यक्रम में उपस्थित सभी अधिकारी एवं कर्मचारियों के लिए रात्रिभोज का आयोजन किया गया
उक्त कार्यक्रम का सफल संचालन अनिल सोनी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक द्वारा किया गया एवं कार्यक्रम में आपरेशन राहुल की ड्यूटी में लगे अभी अधिकारी तथा कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!