कलेक्टर, अपर कलेक्टर, सीईओ को दी गई भावभीनी विदाई, कर्मचारियों का अच्छा सहयोग मिला और टीम भावना के साथ कार्य करने का अवसर मिला, जिसे भूल नहीं पाऊंगा… कलेक्टर जितेंद्र शुक्ला


कलेक्टर, अपर कलेक्टर, सीईओ को दी गई विदाई

Advertisement


Janjgir-champa जांजगीर चांपा। कलेक्टर जितेन्द्र कुमार शुक्ला का स्थानांतरण जिला बेमेतरा, जिला पंचायत सीईओ गजेन्द्र सिंह ठाकुर का स्थानांरतण राजनांदगांव होने पर और अपर कलेक्टर राहुल देव का स्थानांतरण मुंगेली जिला में कलेक्टर के रूप में होने पर जिला प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा विदाई समारोह का आयोजन कर उन्हें स्मृति चिन्ह भेंटकर भावभीनी विदाई दी गई।
रंग महल होटल में आयोजित विदाई समारोह में कलेक्टर जितेन्द्र शुक्ला ने कहा कि उन्हें जांजगीर जिले के विकास के लिए जिला प्रशासन के तरफ से समर्पित अधिकारी-कर्मचारी मिले। उन्होंने कहा कि किसी जिले का कलेक्टर बनने पर आपको काम करने के साथ काम कराना भी आना चाहिए। मै कलेक्टर के पद को डिस्ट्रीक्ट मजिस्ट्रेट के रूप में न मानकर डिस्ट्रीक्ट मैनेजर मानता हूं। वह समय गया जब आपकी पहचान पावर से होती थी। अब आपकी पहचान आपके कामों से होती है। मेरी आदत है कि कोई भी काम शुरू से ही करता हूं और सामने वाले की क्षमता पर विश्वास करता हूं। कलेक्टर ने कहा कि कर्मचारियों का अच्छा सहयोग मिला और टीम भावना के साथ कार्य करने का अवसर मिला, जिसे भूल नहीं पाऊंगा। उन्होंने अपर कलेक्टर राहुल देव को उर्जावान बताते हुए कहा कि आपके नेतृत्व में मुंगेली जिले में कलेक्टर के रूप में बेहतर कार्य होगा। कलेक्टर ने जिला पंचायत सीईओ गजेन्द्र सिंह ठाकुर को अनुभव व कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी बताते हुए कहा कि नए जिले को आपके अनुभव का लाभ मिलेगा। कलेक्टर ने आईएएस रेना जमील को समर्पित अधिकारी बताते हुए कहा कि जिस तरह से वह कार्य कर रही हैं, एक दिन इन कार्यों से वह प्रशंसा हासिल करने के साथ सफलता की सीढ़ी पर अवश्य चढ़ेंगी।
अपर कलेक्टर राहुल देव ने कहा कि जांजगीर जिले से जाने के बाद मै ग्राम पिहरीद की घटना को कभी नहीं भूल पाऊंगा। मै भाग्यशाली था, कि मुझे सरल एवं सहज व्यवहार वाले कलेक्टर जिले में मिले। जिला पंचायत सीईओ ठाकुर ने कहा कि कलेक्टर ने मुझे छोटे भाई के रूप में मान कर जो भरोसा किया है, वह मेरे लिए किसी सम्मान से कम नहीं है। समय-समय पर जिले के अधिकारियों और कर्मचारियों से मिले सहयोग को भुलाया नहीं जा सकता। पुलिस अधीक्षक विजय अग्रवाल ने कहा कि स्थानांतरण एक शासकीय प्रक्रिया है। इस दौरान भावुक होना लाजिमी है। पदास्थापना के दौरान बहुत कम अधिकारी अपनी छाप छोड़ जाते है। कलेक्टर शुक्ला ने कम समय में ही अपनी छाप छोड़ी है। वे जहां भी रहें है। उनकी अलग पहचान रही है। वे छत्तीसगढ़ के विकास के बारे में सोचते है और काम करते हैं। अपनी बेहतर सोच और व्यवहार की वजह से वे बिना किसी को परेशान किये आसानी से कार्य करा लेते हैं। अपर कलेक्टर राहुल देव और जीएस ठाकुर उर्जावान अधिकारी है। वे अपने कार्यों से आने वाले दिनों में छत्तीसगढ़ का नाम रोशन करेंगे। विदाई समारोह में उपस्थित जिला प्रशासन के अधिकारियों ने कार्य के दौरान कलेक्टर से मिले सहयोग का जिक्र करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दी। मंच का संचालन सतीश सिंह द्वारा किया गया।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!