स्वामी आत्मानंद विद्यालय की समस्याएं होंगी दूर विद्यार्थियों को मिलेगी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा


स्वामी आत्मानन्द विद्यालय की समस्याएं होंगी दूर, विद्यार्थियों को मिलेगी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा

कलेक्टर ने स्टीमेट प्रस्तुत करने के दिए निर्देश


जांजगीर चांपा। जिले के विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त स्वामी आत्मानन्द शासकीय स्कूल मिलेगी। कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने इस दिशा में पहल करते हुए आज न सिर्फ जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया, अपितु उन्होंने स्कूल भवन और शिक्षा को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले निर्माण एजेंसियों के अधिकारियों और स्कूल के प्राचार्यों सहित ठेकेदारों की बैठक ली। उन्होंने कहा कि स्वामी आत्मानन्द शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय योजना के रूप में शासन की जो मंशा है, वह धरातल पर नज़र आनी चाहिए। इस कार्य के लिए पैसे की कमी नहीं है। जितना लगेगा, दिया जाएगा। आप लोग ईमानदारीपूर्वक कार्य करे और जिले में प्रदेश का सबसे बढ़िया स्वामी आत्मानन्द विद्यालय बनाए।
कलेक्टर सिन्हा ने जांजगीर-चाम्पा और सक्ती जिले के जिला शिक्षा अधिकारी, निर्माण एजेंसी पीडब्ल्यूडी के ईई, आरईएस, हाऊसिंग बोर्ड सहित संबंधित ठेकेदारों की बैठक ली। उन्होंने कहा कि स्कूल को बेहतर से बेहतर बनाना हम सबकी जिम्मेदारी है। स्कूल बेहतर होंगे और अच्छी शिक्षा मिलेगी तो यहाँ से निकलने वाले विद्यार्थी आप सबका नाम लेंगे। देश का नाम रौशन करेंगे। स्वामी आत्मानन्द उत्कृष्ट शासकीय विद्यालय योजना एक बहुत ही महत्वपूर्ण और महत्वकांक्षी योजना है। इस योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए सभी को दिल से और मन से जुड़कर काम करने की आवश्यकता है। कलेक्टर ने कहा कि हम लोग भले ही अभावों के बीच पढ़ाई किए हैं, लेकिन हमारी आने वाली पीढ़ी किसी तरह की समस्याओं से न जूझे और उन्हें एक सुविधाओं से लैस स्कूल मिले,इस दिशा में हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है। उन्होंने स्वामी आत्मानन्द स्कूलों में जो भी कमियां है उसे दूर करने और शिक्षकों की भर्ती से लेकर संसाधनों की कमी को दूर करने की बात कही। कलेक्टर सिन्हा ने स्कूलों के आवश्यकताओं को ध्यान रखकर स्टीमेट बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने उत्कृष्ट लैब, शौचालय, फर्नीचर, खेलकूद, लाइब्रेरी सहित अन्य जरुरतों पर ध्यान फोकस करने के निर्देश देते हुए कहा कि पैसे का सदुपयोग ईमानदारी के साथ होना चाहिए। इस कार्य से जुड़े सभी लोगों में आत्मसम्मान और गौरव के साथ निष्ठा की भाव भी हो कि हम बेहतर शिक्षा का बीज बो रहे हैं। यह बहुत ही पुण्य का काम भी है। कलेक्टर ने ठेकेदारों को समय पर कार्य पूरा करने और गुणवत्तापूर्ण कार्य करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने बैठक में उपस्थित प्राचार्यों से स्कूलों की वर्तमान स्थिति भी जानी और सुझाव भी प्राप्त किए।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!