कलेक्टर डोमन सिंह ने राजनांदगांव में कक्षा बारहवीं के बच्चों को पढ़ाया

कलेक्टर डोमन सिंह ने राजनांदगांव में कक्षा बारहवीं के बच्चों को पढ़ाया

   लक्ष्य के प्रति समर्पण एवं निष्ठा के साथ कार्य करेंगे तो सफलता जरूर मिलेगी : कलेक्टर डोमन सिंह
 बच्चों को पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा कि आप जो सोच रहे हैं, वह बन सकते हैं
  छात्राओं ने उत्साह एवं खुशी से अपने कैरियर की बातें की साझा
 किसी ने कहा कि चार्टर्ड एकाउन्टेंट, तो किसी ने कहा बैंक मैनेजर, एकाउंट ऑफिसर, कैशियर तो किसी ने शिक्षक एवं पुलिस में जाने की इच्छा जाहिर की
 कलेक्टर ने बच्चों को मूल्य ह्रास, साझेदारी, लाभांश, आयकर, अर्थशास्त्र, बिजनेस स्टडी पढ़ाया
 कलेक्टर ने जिले में शिक्षा गुणवत्ता बढ़ाने के उद्देश्य से की नई पहल, बच्चों के ज्ञान एवं अध्ययन के स्तर को परखा
  
राजनांदगांव। कलेक्टर डोमन सिंह ने जिले में शिक्षा गुणवत्ता बढ़ाने के उद्देश्य से नई पहल की है। इसी कड़ी में आज उन्होंने शासकीय पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला राजनांदगांव में कक्षा बारहवीं के बच्चों को शिक्षक बनकर कॉमर्स विषय पढ़ाया। कलेक्टर सिंह ने कहा कि कोई भी विषय छोटा या बड़ा नहीं है। हर विषय महत्वपूर्ण है। अपने विषय में अच्छी मेहनत करें और सफलता अर्जित करें। उन्होंने बच्चों को पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा कि आप जो सोच रहे हैं, वह बन सकते हैं। लक्ष्य के प्रति समर्पण एवं निष्ठा के साथ कार्य करेंगे, तो सफलता जरूरी मिलेगी। उन्होंने कहा कि कॉमर्स उनका विषय रहा है और इस विषय में कैरियर के अच्छे अवसर हैं। छात्राओं ने उत्साह एवं खुशी से अपने कैरियर की बातें कलेक्टर से साझा की। किसी ने कहा कि चार्टर्ड एकाउन्टेंट बनना है, तो किसी ने कहा बैंक मैनेजर, एकाउंट ऑफिसर, कैशियर तो किसी ने शिक्षक एवं पुलिस में जाने की इच्छा जाहिर की। कलेक्टर ने कहा कि यह आपके जीवन का महत्वपूर्ण मोड़ है। समाचार पत्र जरूर पढ़ें और इसे अपनी आदत में शामिल करें। अपनी पढ़ाई का समय जरूर बढ़ायें।
कलेक्टर सिंह ने बच्चों को पढ़ाते हुए मूल्य ह्रास, साझेदारी, लाभांश, आयकर के संबंध में पूछा और उनके ज्ञान एवं अध्ययन के स्तर को परखा। कलेक्टर ने बच्चों को बताया कि किसी भी तरह का बड़ा व्यवसाय करने के लिए एक व्यक्ति के साथ अन्य व्यक्ति कार्य करते हैं तथा संचालित व्यवसाय के लाभ को आपस में बांट लेते है। जिसे पार्टनरशिप या साझेदारी कहा जाता है। उन्होंने आयकर की जानकारी देते हुए बताया कि नागरिकों को अपनी आय के अनुसार शासन को कर देना होता है और कर कई प्रकार के होते हंै। व्यवसायी प्रतिदिन सुबह व्यवसाय करने के बाद ओपनिंग बैंलेंस तथा शाम को क्लोजिंग बैंलेंस का ब्योरा रखते हैं। उन्होंने बच्चों से कॉमर्स के जनक का नाम पूछा तो बच्चों ने कॉमर्स के जनक लुकास पेसियोला का नाम बताया। उन्होंने अर्थशास्त्र, बिजनेस स्टडी के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कॉमर्स के विद्यार्थियों के लिए बीबीए एवं एमबीए के कोर्स का भी ट्रेंड है और कैरियर के लिए कई नए आयाम हंै। उन्होंने बच्चों से भारत का नक्शा बनवाकर उनके दिशा संबंधी ज्ञान का भी परीक्षण किया। कलेक्टर ने बच्चों से कहा कि कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए टीका जरूर लगवाएं। कलेक्टर ने बच्चों से उनके फेवरेट टीचर के बारे में पूछा, तो बच्चों ने खुशी जाहिर करते हुए शिक्षक एमटी शेख का नाम बताया। बच्चों ने उन्हें स्थायी सम्पत्ति एवं अस्थायी सम्पत्ति के संबंध में भी बताया। इस अवसर पर जिला शिक्षा अधिकारी आरएल ठाकुर एवं प्राचार्य सुनीता खरे, शिक्षक एमटी शेख एवं अन्य अधिकारी तथा शिक्षक उपस्थित थे।
गौरतलब है कि कलेक्टर डोमन सिंह ने जिले में शिक्षा गुणवत्ता बढ़ाने के उद्देश्य से नई पहल करते हुए जिला स्तरीय अधिकारियों को महती जिम्मेदारी सौंपी है। कलेक्टर स्वयं प्रति सप्ताह शासकीय पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला राजनांदगांव में अध्यापन कार्य संपादित करेंगे। जिला स्तरीय अधिकारी सप्ताह में एक दिन स्कूलों में पहुंचकर अध्यापन कार्य संपादित करेंगे। अधिकारीगण अपने विषय अनुसार अध्यापन कार्य संचालित करेंगे।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!