कलेक्टर ने ली साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक गिरदावरी की अंतिम सूची का एक अक्टूबर को होगा प्रकाशन, कलेक्टर ने जमीनी स्तर पर प्रचार प्रसार और मुनादी कराने के दिए निर्देश

कलेक्टर ने ली साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक गिरदावरी की अंतिम सूची का एक अक्टूबर को होगा प्रकाशन, कलेक्टर ने जमीनी स्तर पर प्रचार प्रसार और मुनादी कराने के दिए निर्देश

Advertisement

गंभीर कुपोषित बच्चे और एनीमिक महिलाओं के लिए कार्ड बनाकर नियमित कराएं स्वास्थ्य जांच -कलेक्टर

जांजगीर चांपा। 27 सितंबर 2022/ कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने आज कलेक्टोरेट परिसर के सभाकक्ष में समय-सीमा की साप्ताहिक बैठक में सभी विभागों के कामकाज और शासकीय योजनाओं, कार्यक्रमों के क्रियान्वयन की समीक्षा की। कलेक्टर ने सभी विभागीय अधिकारियों को जनहित की योजनाओं और कार्यक्रमों में सजगतापूर्वक कार्य करने के निर्देश दिए हैं। बैठक में कलेक्टर ने कहा कि गिरदावरी की अंतिम सूची का प्रकाशन एक अक्टूबर को किया जाएगा। जिसमें किसी भी प्रकार की त्रुटि पाए जाने पर जिले के किसान संबंधित तहसील कार्यालयों में 1 से 10 अक्टूबर तक दावा-आपत्ति कर सकते हैं। कलेक्टर ने गिरदावरी के अंतिम सूची के प्रकाशन का गांवों में व्यापक प्रचार प्रसार और कोटवारों के माध्यम से मुनादी कराने के निर्देश दिए हैं। बैठक में कलेक्टर ने महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी को जिले के गंभीर कुपोषित बच्चों और एनीमिक महिलाओं को कुपोषण से दूर करने के लिए उनका नाम सहित कार्ड बनाकर नियमित स्वास्थ्य जांच कराते हुए कार्ड में स्वास्थ्य जांच की तारीख भी उल्लेखित करने के निर्देश दिए हैं। समय-सीमा की बैठक में कलेक्टर ने बताया कि प्रदेश में 6 चरणों में छत्तीसगढ़िया ओलंपिक खेलों का आयोजन किया जाना है। जिसमें खेलों का शुभारंभ जिलों में 6 अक्टूबर से राजीव युवा मितान क्लब स्तर से किया जाएगा। कलेक्टर ने जिले में छत्तीसगढ़िया ओलंपिक खेलों के लिए जगह चिन्हांकित करने तथा व्यवस्थित आयोजन कराए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने स्कूलों में शिक्षकों की उपस्थिति समय पर सुनिश्चित कराने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए। बैठक में कलेक्टर ने कहा कि कुछ शिक्षक जिनका मतदान के कार्यों के लिए बीएलओ की ड्यूटी लगाई गई है, वे इस कार्य का बहाना लेकर पूरा दिन स्कूलों से गायब रहते हैं, जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। कलेक्टर ने बच्चों की शिक्षा प्रभावित ना हो इस बात का पूरा ध्यान रखने तथा जो शिक्षक समय पर स्कूल नहीं आते या किसी भी प्रकार की लापरवाही बरतते हैं, उन पर नियमानुसार कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने बैठक में मुख्यमंत्री कलेक्टर कॉन्फ्रेंस के एजेंडे पर भी बिंदुवार अधिकारियों से जानकारी ली और एजेंडे से जुड़ी सभी अद्यतन जानकारियां जल्द से जल्द उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। बैठक में कलेक्टर ने अवैध प्लाटिंग, कृष्ण कुंज, राजीव युवा मितान क्लब, हाट-बाजार क्लिनिक योजना, वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना, धन्वन्तरी योजना, आत्मनांद स्कूलों में शिक्षकों के खाली पद और भरें पदों की संख्या, निर्माण कार्याें के अद्यतन स्थिति, मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना, अधिकारी-कर्मचारियों की कार्यालयों में समय पर उपस्थिति, आयुष्मान भारत योजना सहित अन्य विभिन्न विषयों पर विस्तार से जानकारी ली तथा आवश्यक निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने समय सीमा के लंबित प्रकरणों की विभागवार जानकारी ली तथा जल्द से जल्द निराकरण करने के निर्देश दिए। बैठक में सक्ती कलेक्टर सुश्री नुपूर राशि पन्ना, वनमंडलाधिकारी श्री सौरभ सिंह, जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ फरिहा आलम सिद्दीकी, अपर कलेक्टर श्री एस पी वैद्य सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

गिरदावरी की अंतिम सूची का ग्राम पंचायत, तहसील कार्यालय और सोसाईटी में किया जाएगा प्रकाशन – समय सीमा की बैठक में कलेक्टर श्री सिन्हा ने बताया कि गिरदावरी कार्य पूर्ण कर खसरा एवं भूइयां साफ्टवेयर में प्रविष्टि के लिए 30 सितम्बर 2022 तक अंतिम तिथि निर्धारित की गई है। इसके पश्चात गिरदावरी की अंतिम सूची का प्रकाशन ग्राम पंचायत, तहसील कार्यालय और संबंधित सोसाईटी में 1 अक्टूबर को किया जाएगा। इसके पश्चात गिरदावरी की अंतिम सूची में किसी भी प्रकार की त्रुटि होने पर संबंधित किसान 1 से 10 अक्टूबर तक तहसील कार्यालय में दावा-आपत्ति कर सकते है। कलेक्टर ने सभी राजस्व अधिकारियों को दावा-आपत्ति के प्राप्त आवेदनों का निर्धारित समय सीमा में प्राथमिकता से निराकरण करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही कलेक्टर ने 1 अक्टूबर को प्रकाशित होने वाले गिरदावरी के अंतिम सूची का ग्राम पंचायतों, तहसील कार्यालय और संबंधित सोसाईटी में प्रकाशन कराते हुए कोटवारो के माध्यम से जमीनी स्तर पर व्यापक प्रचार-प्रसार सुनिश्चित करते हुए पंचनामा भी कराने के निर्देश दिए हैं। जिससे गिरदावरी कार्य में किसी भी प्रकार की त्रुटि पाए जाने पर किसानों के हित में इसका निर्धारित समय-सीमा में निराकरण किया जा सके।

गोधन न्याय योजना के कार्यों की हुई समीक्षा – बैठक में कलेक्टर ने गोधन न्याय योजना के कार्यों की भी समीक्षा की। उन्होंने जिले के सभी गौठानों में अनिवार्य रूप से गोधन खरीदी कराये जाने के निर्देश दिए है तथा जिले में गोधन न्याय योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए संबंधित अधिकारियों को गौठानवार मानिटरिंग करने के निर्देश दिए है। इसके साथ ही उन्होंने बैठक में वर्मी कम्पोस्ट की उपलब्धता, अब तक हुए गोबर खरीदी, गोबर विक्रेताओं की संख्या, खाद बिक्री, खाद की पैकिंग, गौ-मूत्र खरीदी आदि महत्वपूर्ण बिंदूओं पर विस्तार से जानकारी ली तथा आवश्यक निर्देश दिए।

कलेक्टर ने धान खरीदी के संबंध में ली बैठक – कलेक्टर सिन्हा ने समय-सीमा की बैठक के पश्चात धान खरीदी के संबंध में बैठक ली। बैठक में उन्होंने कहा कि धान खरीदी का कार्य शासन का अत्यंत महत्वपूर्ण कार्य है। इसलिए सभी संबंधित अधिकारी जिले के धान खरीदी केन्द्रों का समय पूर्व निरीक्षण करते हुए धान खरीदी केन्द्रो में साफ-सफाई, कम्प्यूटर की व्यवस्था, धान का बारिश से बचाव की व्यवस्था, बारदानों की उपलब्धता सहित अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कर लें। बैठक में कलेक्टर ने संवेदनशील धान खरीदी केन्द्रों की जानकारी ली तथा आवश्यकतानुसार धान खरीदी केन्द्रों में संबंधित अधिकारी-कर्मचारियों का फेरबदल करने कहा। उन्होंने बैठक में उपस्थित सभी तहसीलदारों को अपने क्षेत्रों के धान खरीदी केन्द्रों का जानकारी रखने तथा किसी भी प्रकार की गड़बड़ी पाए जाने पर नियमानुसार तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को समिति के ऑपरेटरों की भी बैठक लेकर आवश्यक निर्देश देने कहा।

जिले में धान खरीदी से संबंधित शिकायतों के लिए कन्ट्रोल रूम होगा स्थापित – बैठक में कलेक्टर ने धान खरीदी कार्य से संबंधित किसी भी प्रकार की शिकायत के लिए जिला स्तरीय कन्ट्रोल रूम स्थापित करने के निर्देश दिए है। कन्ट्रोल रूम की शुरूआत धान खरीदी कार्य के पूर्व किया जाएगा।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!