अशासकीय विद्यालय संघ पामगढ़ के पदाधिकारी एवं सदस्य अपनी समस्यों को लेकर नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल के पास पहुंचे

अशासकीय विद्यालय संघ पामगढ़ के पदाधिकारी एवं सदस्य अपनी समस्यों को लेकर नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल के पास पहुंचे

Advertisement

जांजगीर चांपा । अशासकीय विद्यालय संघ पामगढ़ के पदाधिकारी एवं सदस्य अपनी गंभीर समस्या को लेकर नारायण चंदेल नेता प्रतिपक्ष छ. ग.शासन के कार्यालय पहुँचे, श्री चंदेल ने उनकी समस्या सुनी। समस्या को अवगत कराते हुए अशासकीय स्कूल संघ पामगढ़ के सदस्यों ने कहा कि शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत छत्तीसगढ़ के राज्य सरकार द्वारा पिछले दो वर्ष की राशि भुगतान नहीं कि गई है। इस वर्ष भी मांग पत्र शासन के द्वारा नहीं मांगा गया है, और सभी निजी स्कूलों में शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत विद्यार्थियों का प्रवेश हो चुका है। इसलिए आर्थिक रूप से अनेकों समस्यों का सामना करना पड़ रहा है, कर्ज लेकर शिक्षकों को राशि भुगतान की जाती है, स्कूलों की स्थिति इतनी दयनीय है की स्कूल बंद होने के कगार पर आ चुकी है, इन सभी बातों को सुनते हुए नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल बोले कि संविधान संशोधन कर 10 वर्ष पूर्व शिक्षा को मूल अधिकार में सम्मिलित किया गया तथा निजी स्कूलों में प्रवेश 25 प्रतिशत गरीब तबके के बच्चों को लेने का निर्देशित किया गया। साथ ही सरकार द्वारा इसके एवज में विद्यालयों को क्षतिपूर्ति देने का प्रावधान किया गया प्रत्येक वर्ष निशुल्क सीटों को भरा जाता है तथा अब अधिकांश स्कूलों में निशुल्क शिक्षा के तहत पढ़ने वाले विद्यार्थियों की संख्या बहुत अधिक हो चुकी है। परंतु केवल प्रारंभ के वर्षों में सरकार द्वारा राशि प्रदान की गई। उसके बाद कांग्रेस सरकार का रवैया राशि प्रदान करने हेतु उदासीन होता चला गया। स्थिति बदतर होते जा रही है। उन्होंने बताया कि 2 वर्ष पूर्व जब कोरोना वायरस फैला उस समय अनेक निजी स्कूल बंद हो गए या बंद होने की कगार पर आ चुके है। निजी स्कूलों के शिक्षकों की स्थिति अत्यधिक दयनीय हो गई। निजी स्कूलों के अनेक शिक्षक अन्य छोटे कार्य करने हेतु मजबूर हो चुके है। देखा जाए तो राज्य सरकार द्वारा निजी स्कूलों पर अनेक प्रकार की कड़ाई या पाबंदियां लगाई जाती हैं परंतु सरकार द्वारा उचित सहयोग नहीं दिया जा रहा है या दूसरे शब्दों में कहें तो सहयोग करने में असफल चुकी है। श्री चंदेल ने कहा जब राज्य में भाजपा की सरकार थी तब सही समय पर राशि प्रदान की जाती थी। केंद्र सरकार शिक्षा के अधिकार के तहत 60%राशि राज्य में कांग्रेस की सरकार को दे चुकी है । लेकिन राज्य के भ्रष्टाचार में लिप्त मुख्यमंत्री केंद्र की दी हुई राशि डकार चुकी है। संघ के सदस्यों को आश्वासन देते हुए कहा कि मैं खुद इस गंभीर विषय को लेकर राज्य सरकार से मजबूती से अपनी बात रखूँगा और आप सभी के हित के लिए लड़ाई लड़ूंगा ताकि आप लोगों की राशि मिल सके।इस बीच नरेंद्र पाण्डेय संचालक विद्यानिकेतन एवं ड्रीमलैंड पब्लिक स्कूल पामगढ़(संरक्षक-अशासकीय विद्यालय संघ पामगढ़), सरस्वती शिशु मंदिर केसला संचालक घासीराम पटेल,तिरंगा ज्ञान दीप उच्चतर माध्यमिक विद्यालय लोहर्सी संचालक रामकुमार साहू,
बाल विकास संस्कृत उ: मा: विद्यालय डोंगाकोहरौद संचालक आकाश पाण्डेय, छ. ग. ज्ञान ज्योति उच्च. माध्यमिक विद्यालय पामगढ़ प्राचार्य दिलीप कुमार सुमन,बी.आर. अम्बेडकर हाई स्कूल बोरसी प्राचार्य रमाशंकर भारते,ज्ञानोदय स्कूल भद्रा संचालक धनंजय दिब्य(अध्यक्ष-अशासकीय विद्यालय संघ पामगढ़) , न्यू द्रोणाचार्य विद्या पामगढ़ से शिवराम कुम्भकार, शाइनिंग स्टार स्कूल राहोद से राकेश जोशी, राकेश कुमार उ.मा.वि. रसौटा संचालक सतीश जांगड़े(संरक्षक-अशा. विद्या. संघ पामगढ़), सावित्री फुले बाई संस्कृत विद्या कोसीर संचालक पुनीत राम यादव, महादेव सिंह टण्डन(उपाध्यक्ष-अशा.विद्या. संघ पामगढ़), महात्मा ज्योति राव फूलें स्कूल केसला, भारती विद्या मंदिर लगरा संचालक गणेश पटेल(सचिव-अशा.विद्या संघ पामगढ़) विद्या.संघ,आकाश पाण्डेय संचालक बाल विकास विद्या डोंगाकोहरोद,चंद्र प्रसाद देवांगन प्राचार्य संत जोशेफ विद्यालय पामगढ़,
मंजीत मिरी संचालक राजकुमार विद्यालय पामगढ़, सहित अन्य उपस्थित थे।

Leave a Comment

Advertisement
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
Advertisement
error: Content is protected !!